मैथिली साहित्य

मैथिली गीतः चिन देशसँ आएल मास्टरनी

प्रेम झा चिन देशसँ आएल मास्टरनी, घुमि घुमि लैया क्लास गे मूर्ख बुझैया नेपाली नेता के, जग भरी होई उपहास…

मैथिली कविताः घर सोझाके अशोक गाछ

  – चन्द्रकिशोर कहियो सुसकैय कहियो घेघिआईय शब्द गुमसुम परल रहैय जस के तस लेकिन पुरान बाकस जकां बचैले हय…