स्वर्गीय अमितक चर्चाः मित्र बनावएमे डर लागि रहल

Byदूधमती साप्ताहिक

१९ फाल्गुन २०७७, बुधबार १२:२५ १९ फाल्गुन २०७७, बुधबार १२:२५ १९ फाल्गुन २०७७, बुधबार १२:२५

सुजीत कुमार झा
एक दिन जिंदगी ऐसे मुकाम पर पहुँच जाएँगी।
दोस्ती तो सिर्फ़ यादों में ही रह जाएँगी।
हर बात दोस्तों की याद दिलायेंगी।
और हँसते हँसते फिर आँख नम हो जाएँगी।
विश्वास नहि भऽ रहल अछि आई ओ हमरासभ लग नहि छथि । मात्र दश दिन भेल हएत सामाजिक कार्यकर्ता अमित झाजीसँ भेट भेला । हम भानु चौकपर एकगोटेसँ बतियाति रही आ भेट भेल छलाह । ओ कहलाह, ‘चलु चाह पीबैत छी ?’

‘बाटे घाटे किए पीब अपनेके घरे अबैत छी,’ हम कहलहुँ आ ओतएसँ ओ अपना घर दिस बढि गेलाह ।
अमितजीसंग हमर करीब दशवर्षसँ परिचय छल । कएबेर ओ हमरो घर आएल छलाह । हमहूँ कएबेर हुनक घर गेल छलहुँ । वाटे घाटे कएवेर भेटभेल छलाह मुदा पहिलबेर चाह दोकानपर चलए आमन्त्रण कएलन्हि । किछु बात करबाक छलन्हि की ??

हुनकासँग अन्तिम भेट इएह अछि । २–३ दिनपर बराबर भेटघाट भऽ जाइत छल मुदा दश दिनमे कहिओ नहि भेट भऽ सकल मित्रके हमरासँ छुटबाक जे छलन्हि । अमितजी सहीमे अपने रुसिकऽ चलि गेलहुँ । एकबर्ष भीतरमे दोसर मित्र अमित छथि जे रुसिकऽ चलि गेलाह । एहिसँ पहिने राम युवा कमिटीक पूर्व अध्यक्ष सोहन ठाकुर रुसिकऽ एहि धरतीसँ चलि गेल छलाह । आब मित्र बनाबएमे डर लागि रहल अछि ।
कहते हैं कि दोस्ती का रिश्ता
बड़ा ही खूबसूरत होता है।।

अगर दोस्ती ही बेवफा हो जाये
तो यही रिश्ता सबसे बदसूरत होता है।।

दो दोस्त अगर बिछड़ जाये
तो ज़िन्दगी वीरान होती है।।
समाजिक कार्यमे हरेक समय सक्रिय रहल अमितजीक अभाव जनकपुरधाममे बर्षो खटकैत रहत । कहिओ बृक्षारोपणमे सहभागि होइत छलथि, कहिओ सरसफाईमे, कहिओ गरीबसभके राहत वितरणमे । कपी उद्योग हुनक छल । अपन व्यवसाय ओ करैत छलथि, ओ व्यवसायमे किछु आम्दानी भेल कि गरीबसभके कपी वितरण करए चलि जाइत छलथि । सासद रामअशिष यादव टिमक एकटा सशक्त अभियानी छलथि । दिनभरि समाजसेवेमे सक्रिय रहति छलाह, कखन अपन व्यवसाय कऽ लैत छलाह पत्तो नहि चलैत छल । मात्र मिशन समाजसेवा । आईसँ जनकपुरधाममे जनकपुर साहित्य महोत्सव शुरु भेल अछि एकर आयोजना नव मिथिला फाउण्डेशन कएलक अछि, एकरो अध्यक्ष अमितजीए अछि । साहित्यमे सेहो रुचि छलन्हि । ओ बराबर लेखसभ लिखबो करैत छलथि । जनकपुरधामक एकटा टिभिमे किछु दिन एकटा कार्यक्रम सेहो चलौलन्हि । विविधावला व्यक्ति रहथि ।
मिलते आज भी हैं सब, दोस्ती की यही तो बात है,
ये महज एक कहानी नहीं, ये मेरी दोस्ती की दास्तान है।

यो पनि पढ्नु होस्

corona

corona update